• Hindi News
  • No fake news
  • Fact Check : Did Journalist Barkha Dutt Share The Old Video Of The Police Beating The Boy? BJP Leader Kapil Mishra’s Allegation Turned Out To Be False

एक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक
  • दिल्ली पुलिस ने स्वीकारा – वीडियो 22 अगस्त की रात का है, मामले की जांच की जा रही है

क्या वायरल : सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है। दिल्ली के बताए जा रहे इस वीडियो में पुलिस का सिपाही एक लड़के को लाठी से पीटता दिख रहा है।

भाजपा नेता कपिल मिश्रा का आरोप है कि वीडियो आठ महीने पुराना है। और इसे हाल ही का बताकर लोगों को भ्रमित किया जा रहा है।

सोशल मीडिया पर इस वीडियो को लेकर बहस छिड़ गई है। एक पक्ष जहां इस वीडियो को हाल ही का बता रहा है। वहीं कुछ लोग कपिल मिश्रा के आरोप को सच मान रहे हैं। दैनिक भास्कर की फैक्ट चेक टीम ने मामले की पड़ताल शुरू की।

वायरल वीडियो

  • वीडियो को सोशल मीडिया पर सबसे पहले बरखा दत्त के मीडिया प्लेटफॉर्म Mojo Story से जारी किया गया था।
  • भाजपा नेता कपिल मिश्रा ने वीडियो को रीट्वीट करते हुए आरोप लगाया कि ये 8 महीने पुराना है।
  • कपिल मिश्रा के बाद सोशल मीडिया पर कई यूजर बरखा दत्त पर पुराना वीडियो गलत दावे के साथ शेयर करने का आरोप लगाने लगे।

फैक्ट चेक पड़ताल

  • कपिल मिश्रा का आरोप है कि वीडियो 8 महीने पुराना है। हालांकि, ट्विटर पर यह आरोप लगाते समय उन्होंने ऐसा कोई फैक्ट/सबूत सामने नहीं रखा जिससे पुष्टि होती हो कि वाकई वीडियो पुराना है।
  • आमतौर पर जब पुराने वीडियो गलत दावे के साथ शेयर किए जाते हैं। तब पुलिस या प्रशासन की तरफ से इनका स्पष्टीकरण जारी किया जाता है। इसलिए हमने दिल्ली पुलिस द्वारा 24 अगस्त के बाद जारी किए गए अपडेट चेक करना शुरू किए। इस दौरान हमें साउथ दिल्ली के डीसीपी के दो ट्वीट मिले। ये ट्वीट वायरल वीडियो को लेकर ही हैं।

डीसीपी के ट्वीट का हिंदी अनुवाद है : 22-23 अगस्त की रात, एकता विहार जेजे कैंप के पास गश्त कर रहे एरिया के बीट स्टाफ ने 4-5 लड़कों को सार्वजनिक शौचालय के आसपास बैठे देखा। पास में ही स्थित जेजे कैंप की कुछ महिलाओं ने उनकी शिकायत की थी। दरअसल, यह लड़के रात के समय ही इस शौचालय का बार-बार उपयोग करते थे। गश्त कर रही टीम ने उन्हें जगह छोड़ने को कहा। जब टीम दोबारा 3 बजे गश्त पर आई, तो लड़के उसी जगह पर मिले। वीडियो में जो कॉन्सटेबल लड़के के साथ मारपीट करता दिख रहा है। उसको लेकर जांच शुरू कर दी गई है।

  • मोजो स्टोरी की खबर में दावा किया गया है कि लड़के खाने की तलाश में थे। जिस दौरान दिल्ली पुलिस ने उनसे मारपीट की। लेकिन, दिल्ली पुलिस के डीसीपी ने ट्वीट कर बताया कि आसपास की महिलाओं की तरफ से उनकी शिकायतें आई थीं। हालांकि, यह साफ हो गया कि वीडियो पुराना नहीं है। बल्कि 22 अगस्त की रात का ही है।
  • ट्वीट में कपिल मिश्रा ने यह भी दावा किया था कि जिन लड़कों को पीटा जा रहा है वे चेन स्नैचर हैं। हालांकि, डीसीपी के ट्वीट में ऐसा कोई जिक्र नहीं है।
  • इंडियन एक्सप्रेस वेबसाइट की 25 अगस्त की खबर से भी यह पुष्टि होती है कि वीडियो 22 अगस्त की रात का है औऱ् दिल्ली पुलिस इस मामले की जांच कर रही है।

निष्कर्ष : लड़के को पीटते पुलिस सिपाही का वीडियो 22 अगस्त का ही है। दिल्ली पुलिस मामले की जांच कर रही है। भाजपा नेता कपिल मिश्रा का आरोप पड़ताल में फेक निकला।

0




Source link