26/11-मुंबई हमलों पर इससे पहले कई फिल्में और वेब सीरीज रिलीज हो चुकी हैं, ऐसे में ये वेब सीरीज कितनी अलग और फैंस के लिए खास है?

26/11-मुंबई हमलों पर इससे पहले कई फिल्में और वेब सीरीज रिलीज हो चुकी हैं, ऐसे में ये वेब सीरीज कितनी अलग और फैंस के लिए खास है?

जी हां! बहुत फिल्में और वेब सीरीज इस दर्दनाक विषय पर बन चुकी हैं। ये फिल्म संदीप उन्नीथन की किताब ‘ब्लैक टॉरनैडो: द थ्री सीज ऑफ मुंबई 26/11’ पर आधारित है। इस वेब सीरीज का केंद्र एनएसजी (नेशनल सिक्योरिटी गार्ड) और उनके द्वारा चलाए गए ऑपरेशन को दर्शाया गया है। जहां एनएसजी के कमांडो और उनकी टीम के योगदान के वजह से इस भयावह स्थिति पर काबू पाया गया था।

संदीप उन्नीधन की बुक 'ब्लैक टॉरनैडो' पर बनी ये वेब सीरीज कितनी रियलस्टिक है और आप इसे कैसे देखते हैं।

संदीप उन्नीधन की बुक ‘ब्लैक टॉरनैडो’ पर बनी ये वेब सीरीज कितनी रियलस्टिक है और आप इसे कैसे देखते हैं।

‘ब्लैक टॉरनैडो: द थ्री सीज ऑफ मुंबई 26/11’ किताब पर बनी ये फिल्म उन 60 घंटो को बयान करती है जब एनएसजी को बुलाया गया। लोगों को जानना चाहिए कि कैसे हमारे बहादुरों ने इस दर्दनाक लड़ाई को लड़ा। हमारे समाज में ऐसे ऑफिसर के नाम भी लोग नहीं जानते हैं। एकदम सत्य घटना पर बनी इस वेब सीरीज में प्रमाणिकता व सत्यता के चलते अमेरिकी डायरेक्ट मेथिऊ ल्युटवायलर को बुलाया गया था।

 कुछ सीन विकी कौशल की फिल्म 'उरी' की याद दिलवाते हैं। आपको क्या लगता है इस वेब सीरीज की तुलना उरी से करना कितना उचित है?

कुछ सीन विकी कौशल की फिल्म ‘उरी’ की याद दिलवाते हैं। आपको क्या लगता है इस वेब सीरीज की तुलना उरी से करना कितना उचित है?

‘स्टेट ऑफ सीज’ की ‘उरी’ फिल्म से तुलना करना कतई ठीक नहीं है। उनकी फिल्म ‘उरी’ हमले से और दूसरे मिशन से जुड़ी थी और ये वेब सीरीज का उद्देश्य व काम अलग है। इस कहानी को हम 26/11 की एनएसजी के रोल को बयान कर रहे हैं। ‘उरी’ और ‘स्टेट ऑफ सीज’ दोनों का ही अलग महत्व है।

आपकी नजर में देशभक्ति क्या है और सुरक्षाकर्मी के जीवन को किस तरह देखते हैं?

आपकी नजर में देशभक्ति क्या है और सुरक्षाकर्मी के जीवन को किस तरह देखते हैं?

मैं पहली बार ‘लेफ्ट राइट लेफ्ट’ में एक सैनिक का रोल अदा कर चुका हूं। पहले कैडर था इस बार मैं मेजर बन गया हूं। 15 साल टेलीविजन में काम करके मैं डिजिटल प्लेटफॉर्म पर आया हूं। मैंने अपने रोल को बखूबी ढाला है। मैं चाहता हूं कि इस वेब सीरीज के जरिए हम हमारे सुरक्षाकर्मियों को सैल्यूट करें और लोगों को जानना चाहिए कि कैसे हमारे जवान हमारे लिए अपनी जान झोंक देते हैं । हमें अपने कमांडो और जवानों की जीत को सेलिब्रेट करना चाहिए। मैंने इस वेब सीरीज से काफी कुछ सीखा है।

हंसी मजाक वाले होस्ट के बाद 'स्टेट ऑफ सीज' में आप एकदम स्ट्रॉन्ग पर्सलैनिटी में नजर आए हैं। आपने किरदार के लिए खुद को कैसे ढाला?

हंसी मजाक वाले होस्ट के बाद ‘स्टेट ऑफ सीज’ में आप एकदम स्ट्रॉन्ग पर्सलैनिटी में नजर आए हैं। आपने किरदार के लिए खुद को कैसे ढाला?

मैंने इस रोल के लिए वेपन ट्रेनिंग से लेकर तमाम परीक्षण लिए हैं। रही बात ‘झलक दिखलाजा’ स्टेज पर हंसी मजाक और कॉमेडी करने की तो मैं मानता हूं कि एक एक्टर होने के नाते हर रोल व काम के हिसाब से खुद को ढालना पड़ता है। हमने विक्की कौशल को भी देखा है कि वह कैसे रोमांटिक फिल्म से सीधे ‘उरी’ में दमदार अंदाज में नजर आए। मैं एक्टिंग क्षेत्र में पीछे कई सालों से काम कर रहा हूं। मैं सबसे पहले एक्टर हूं और फिर होस्ट। होस्ट के तौर पर तो मैं अभी काम करने लगा हूं। एक एक्टर का काम यही होता है कि वह सीरियस होकर अपने किरदार पर काम करें।

 अपने करियर में आप नागिन सीरियल को किस तरह देखते हैं, क्योंकि इसके बाद आप बॉलीवुड फिल्मों में भी नजर आए?

अपने करियर में आप नागिन सीरियल को किस तरह देखते हैं, क्योंकि इसके बाद आप बॉलीवुड फिल्मों में भी नजर आए?

मैं आपको बता दूं मेरी वो बॉलीवुड फिल्म टीवी सीरीयल से पहले काफी पहले बनी थी लेकिन टेलीविजन में डेब्यू करने के बाद रिलीज हुई। मुझे उस दौरान पता भी नहीं था कि ये फिल्म मैंने क्यों साइन की है, क्यों ये फिल्म कर रहा हूं। मेरा इंडस्ट्री में कोई गॉडफादर नहीं है। हां, मुझे इस फ्लॉप रही फिल्म का कोई अफसोस नहीं है लेकिन मैं मानता हूं कि मुझे वो फिल्म नहीं करनr चाहिए थी। हां, मेरे करियर का ‘नागिन’ सीरियल वाला स्टेज काफी सुनहरा था। किसी ने नहीं सोचा था कि लोग ‘नागिन’ सीरियल के इतने दीवाने हो जाएंगे और उसके बाद मुझे फैंस का बहुत प्यार मिला। मैं बस यही चाहता हूं कि मैं ये प्यार बरकरार रखूं और लोगों की उम्मीदों पर खरा उतरूं। मेरी यही कोशिश रहती है कि मैं अपने फैंस को अपने किरदार के जरिए प्यार दूं।

कोरोना वायरस के चलते आपको प्रमोशन में कैसी दिक्कतों का सामना करना पड़ा?

कोरोना वायरस के चलते आपको प्रमोशन में कैसी दिक्कतों का सामना करना पड़ा?

पूरी दुनिया कोरोना वायरस के चलते ठप्प हो गई है। इसके चलते सभी यात्राएं और दौरे कैंसिल हो गए। हालांकि हमें प्रिंट मीडिया व डिजिटल प्लेटफॉर्म पर शानदार मौका मिला है। मैं मानता हूं कि इस खतरनाक स्थिति में लोगों को बाहर नहीं जाना चाहिए। ऐसे में लोग घर में लोग जी5 पर ‘स्टेट ऑफ सीज’ को देख सकते हैं। क्योंकि ये जरूर एक खास छाप छोड़ने में सफल होगी।

आपकी अपकमिंग बॉलीवुड फिल्म का क्या स्टेटस है। बड़े पर्दे पर क्या फिर आप नजर आने वाले हैं?

आपकी अपकमिंग बॉलीवुड फिल्म का क्या स्टेटस है। बड़े पर्दे पर क्या फिर आप नजर आने वाले हैं?

हां, मैं बिल्कुल मेहनत कर रहा हूं। मेरी एक दो मीटिंग भी इस सिलसिले में तय हुई थी और मुझे इन प्रोजेक्ट के चलते विसिट भी करना था। लेकिन कोरोना के चलते सब शेड्यूल कैंसिल हो गए। कोरोना के चलते मनोरंजन जगत को करीब 750 करोड़ का नुकसान हुआ है। ऐसे में न जानें वो फिल्में अब बनेंगी या नहीं। मेरा सपना है कि मैं अच्छे डायरेक्टर और फिल्ममेकर्स के साथ काम करूं, मैं इस दिशा में मेहनत भी कर रहा हूं। अगर मेरी किस्मत में हुआ तो यकीकन में फिल्मों में नजर आऊंगा।


Source link