• Hindi News
  • National
  • Arvind Kejriwal Letter To Narendra Modi; Delhi CM Thanks To Prime Minister Over 700 Tonnes Oxygen

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली5 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
CM केजरीवाल ने कहा कि यदि केंद्र रोज 700 टन से ज्यादा ऑक्सीजन भेजता है तो हम अस्पातलों में बेड बढ़ा सकते हैं। - Dainik Bhaskar

CM केजरीवाल ने कहा कि यदि केंद्र रोज 700 टन से ज्यादा ऑक्सीजन भेजता है तो हम अस्पातलों में बेड बढ़ा सकते हैं।

केंद्र और दिल्ली सरकार के बीच कई दिनों से चला आ रहा ऑक्सीजन सप्लाई का विवाद सुलझता नजर आ रहा है। बुधवार को पहली बार केंद्र की तरफ से 730 टन ऑक्सीजन दिल्ली भेजी गई। इसके बाद गुरुवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने चिट्ठी लिखकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आभार व्यक्त किया।

केजरीवाल ने चिट्ठी में लिखा, ‘केंद्र सरकार की तरफ से पहली बार दिल्ली को 730 टन ऑक्सीजन भेजी गई है। दिल्ली के लोगों की तरफ से मैं आभार व्यक्त करता हूं। राज्य की खबत 700 टन ऑक्सीजन प्रतिदिन की है। इसके लिए हम कफी समय से केंद्र से प्रार्थना कर रहे थे। आपसे विनती है कि इतनी ही ऑक्सीजन हमें रोज मिले और इसमें किसी तरह की कटौती ना की जाए।

सप्लाई इतनी रही तो दिल्ली में कोई ऑक्सीजन की कमी से नहीं मरेगा
केजरीवाल ने आगे कहा कि यदि हमें लगातार 700 टन ऑक्सीजन भेजी जाती है तो हम दिल्ली में 9000-9500 ऑक्सीजन बेड का इंतजाम कर सकते हैं। मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि इसके बाद दिल्ली में किसी को ऑक्सीजन की कमी से नहीं मरने दिया जाएगा। पिछले कुछ दिनों में ऑक्सीजन की कमी के कारण अस्पतालों को बेड की कैपेसिटी घटानी पड़ी थी। मैं सभी अस्पतालों से अनुरोध करता हूं कि वे अब बेड की संख्या वापस बढ़ा सकते हैं।

दिल्ली में 24 घंटे में 20 हजार से ज्यादा पॉजिटिव
देश की राजधानी दिल्ली में बुधवार को 20,960 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए। 19,209 लोग ठीक हुए और 311 की मौत हो गई। अब तक 12 लाख 53 हजार लोग संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं। इनमें 11 लाख 43 हजार ठीक हो चुके हैं, जबकि 18,063 मरीजों की मौत हो चुकी है। 91,859 का इलाज चल रहा है।

कालाबाजारी कर रहे लोगों में नैतिकता खत्म हो गई: दिल्ली HC
दिल्ली हाईकोर्ट ने गुरुवार को कोरोना महामारी पर अब तक की सबसे तल्ख टिप्पणी की। कोर्ट ऑक्सीजन सिलेंडर, दवाई और ऑक्सीजन कॉन्सेंट्रेटर की जमाखोरी और कालाबाजारी से कोर्ट बेहद खफा दिखा। कोर्ट ने कहा कि लोगों की इंसानियत काफी हद तक खत्म हो चुकी है, जो वे अभी भी कालाबाजारी में जुटे हुए हैं। जस्टिस विपिन सांघी और जस्टिस रेखा पल्ली की बेंच ने कहा कि लोग अभी भी हालात की गंभीरता को नहीं समझ रहे हैं और इसी वजह से हम साथ नहीं आ रहे हैं। यही कारण है कि हम जमाखोरी और कालाबाजारी जैसी चीजें देख रहे हैं।

खबरें और भी हैं…

Source link