कांग्रेस के ही 2 नेताओं की वजह से शुरू हुआ पार्टी में बवाल : सूत्र

कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक आज अहम है. (फाइल फोटो)

खास बातें

  • कांग्रेस में ‘लेटर बम’
  • 2 नेताओं का हाथ : सूत्र
  • आज है अहम दिन

नई दिल्ली :

कांग्रेस कार्यसमिति (CWC) की बैठक शुरू होने से पहले एक बड़ी जानकारी सामने आ रही है. सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस में 23 नेताओं की ओर से लिखी चिट्ठी के पीछे 2 नेताओं का हाथ बताया जा रहा है. इन दोनों का राज्यसभा में कार्यकाल खत्म हो रहा है और इनके मन में संशय था कि इन्हें दोबारा पार्टी की ओर से राज्यसभा का टिकट दिया जाएगा. अपनी सदस्यता बरकरार रखने के लिए इन दोनों ने महाराष्ट्र में एक पार्टी से भी बात कर ली थी. इसके बाद दोनों ने दबाव बनाने के लिए सोनिया गांधी की नेतृ्त्व पर एक तरह से सवाल उठा दिया और यह ‘लेटर बम’ इसी का नतीजा है. कहा ये भी जा रहा है कि ये सब इसलिए भी किया गया कि राहुल गांधी अपने पसंद के व्यक्ति को अध्यक्ष ना बनवा सकें. हालांकि इन दोनों नेताओं का नाम सूत्र ने नहीं बताया है. लेकिन 23 वरिष्ठ नेताओं जिनमें शशि थरूर, गुलाम नबी आजाद और कपिल सिब्बल नेता जैसे शामिल हैं, की चिट्ठी सार्वजनिक होने से कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी काफी नाराज हैं और माना जा रहा है कि सोनिया गांधी कांग्रेस वर्किंग कमेटी में अपने इस्तीफे का ऐलान कर देंगी.

यह भी पढ़ें

CWC Meeting Live Update: थोड़ी देर में शुरू होगी कांग्रेस की कार्य समिति की बैठक

वहीं दूसरे ओर राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने भी इस जिम्मेदारी लेने से इनकार कर चुके हैं. फिलहाल अब देखने वाली बात ये है कि अगर क्या कांग्रेस गांधी परिवार से इतर भी किसी को पार्टी का अध्यक्ष बनाएगी. लेकिन सवाल इस बात का है कि कांग्रेस के सामने विकल्प ज्यादा दिख नहीं रहे हैं. क्योंकि पार्टी के अंदर गांधी परिवार के अलावा  किसी के नाम पर सहमति बन जाए ये दूर की कौड़ी नजर आ रही है. तो क्या सवाल इस बात का है कि लोकसभा चुनाव के बाद कांग्रेस वर्किंग मीटिंग की तरह इस बार भी किसी को अंतरिम अध्यक्ष बना दिया जाएगा. लेकिन माना जा रहा है कि इस बार कांग्रेस के टालने वाला विकल्प भी सीमित है क्योंकि इस बार 23 वरिष्ठ नेताओं ने आवाज उठाई है. 

सोनिया ही रहेंगी या राहुल-प्रियंका संभालेंगे कांग्रेस की कमान, आज CWC बैठक में होगा फैसला – 10 बातें

लेकिन इस चिट्ठी के बाद से कांग्रेस में खेमेबाजी शुरू हो गई है. एक खेमा इन नेताओं की जमकर आलोचना कर रहा है. राजस्तान के सीएम अशोक गहलोत ने कहा है कि अगर चिट्ठी की बात सच है तो यह दुर्भाग्यपूर्ण है. सोनिया गांधी ने 1998 से लगातार पार्टी की कमान संभाली है. वहीं पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने भी सोनिया गांधी की तारीफ करते हुए कहा है कि उनको पार्टी के अध्यक्ष पद पर बने रहना चाहिए और इसके बाद राहुल गांधी को कमान संभालनी चाहिए. 


Source link