जब आपने दबंग की शुरुआत की थी, तो कभी सोचा था कि ये एक फ्रैंचाइजी का रूप लेगी?

जब आपने दबंग की शुरुआत की थी, तो कभी सोचा था कि ये एक फ्रैंचाइजी का रूप लेगी?

दरअसल, दबंग का अंतिम सीन जो हमने दिखाया था, वह एक हिंट था कि इसका सीक्वल भी आ सकता है। अरबाज खान ने उस वक्त कहा भी था सीक्वल को लेकर अभी से प्लान करना क्या ज्यादा हो रहा है? तो मैंने उसे कहा था कि यदि दबंग हिट जाती है तो सही है.. वर्ना अब इसमें तो हम कुछ नहीं कर सकते। लेकिन दबंग को सभी ने पसंद किया, फिर हमने दबंग 2 लाई, उसे भी लोगों ने प्यार दिया।

'मुन्ना बदनाम' के लिए वरीना हुसैन का चुनाव कैसे हुआ?

‘मुन्ना बदनाम’ के लिए वरीना हुसैन का चुनाव कैसे हुआ?

वरीना ने इससे पहले आयुष (शर्मा) के साथ लवयात्री में काम किया था। ‘मुन्ना बदनाम’ के लिए हम किसी और एक्ट्रेस के पास जा सकते थे। लेकिन वरीना के साथ हमने पहले भी काम किया था और वो इतनी बेहतरीन अदाकारा हैं, इसीलिए हमने सोचा कि वो इस गाने में भी कमाल दिखा सकती हैं।

एक फ्रैंचाइजी को आगे बढ़ाना मुश्किल होता है?

बहुत ही मुश्किल, लेकिन ‘दबंग’ सही दिशा में आगे बढ़ रही है। यहां तक की चौथे पार्ट की तैयारी भी शुरु हो चुकी है। ये बहुत कम ही होता है, जैसे रॉकी सीरिज है, या रैंबो सीरिज है।

इस बार फिल्म प्रोड्यूस करने के साथ साथ आपने लेखन भी योगदान दिया है?

इस बार फिल्म प्रोड्यूस करने के साथ साथ आपने लेखन भी योगदान दिया है?

मेरे दिमाग में एक आइडिया आया और मैं और अरबाज़ उसे आगे बढ़ाते गए। फिर हमने चुलबुल के अतीत में जाने का निर्णय लिया और इसी तरह फिल्म में प्रीक्वल वाला हिस्सा आया। एक आइडिया के साथ फिल्म की शुरूआत हुई, फिर हम मेरे किरदार चुलबुल पांडे के अतीत में गए.. और फिर किस तरह से उसका अतीत उसके आज से मिलता है और चुलबुल उससे कैसे निपटता है। यही है दबंग 3।

सीक्वल बनाने से भी ज्यादा चैलेजिंग है प्रीक्वल बनाना। इसकी शुरुआत कैसे हुई और आप युवा चुलबुल पांडे से खुद को कितना जोड़ पाए?

सीक्वल बनाने से भी ज्यादा चैलेजिंग है प्रीक्वल बनाना। इसकी शुरुआत कैसे हुई और आप युवा चुलबुल पांडे से खुद को कितना जोड़ पाए?

दबंग 3 पूरी तरह से प्रीक्वल नहीं है। यह सेमी- प्रीक्वल है। यह पहले आज में रहती है, फिर अतीत में जाती है और फिर आज में आ जाती है। और जहां तक चुलबुल से खुद को जोड़ने की बात है तो वह मुझसे बिल्कुल ही अलग है। चुलबुल बहुत ही सिंपल लड़का है।

सईं मांजरेकर इस फिल्म से डेब्यू कर रही हैं। आप बचपन से उन्हें जानते हैं और अब वो बतौर एक्ट्रेस आपके अपोजिट आ रही हैं। आपको लगता है सईं ने अपने किरदार के साथ न्याय किया है?

सईं ने फिल्म में अद्भुत काम किया है। दबंग 3 के बाद इस इंडस्ट्री को एक बड़ा स्टार मिलने वाला है, यदि ऐसा नहीं हुआ तो मुझे हैरानी होगी।

'चुलबुल पांडे', इस नाम के पीछे की क्या कहानी है?

‘चुलबुल पांडे’, इस नाम के पीछे की क्या कहानी है?

दरअसल, मैंने ये कहानी ज्यादा किसी को बताई नहीं है। आज बताता हूं कि अरबाज मेरे पास दबंग लेकर आया था। यह एक बहुत डार्क फिल्म थी और छोटे बजट पर बनने वाली थी। फिल्म का बजट 2-3 करोड़ के लगभग रखा गया था। तो उस वक्त इस फिल्म में रणदीप हुडा और अरबाज खान मुख्य किरदारों में थे। तो अरबाज़ ने मुझसे कहा कि मेरे पास एक कहानी आई है, मुझे पसंद है, आप सुन लो। तो सुनने सुनाने में ही 6-8 महीने निकल गए। शायद यूटीवी उस वक्त इस फिल्म को बनाने वाले थे। मैंने फिल्म की स्क्रिप्ट सुनी.. तो मुझे कहानी का फील पसंद आया, लेकिन चुलबुल पूरी तरह से निगेटिव किरदार था। फिल्म में इस स्तर का कोई एक्शन नहीं था। कोई गाना नहीं.. और उसमें अंत तक नहीं पता चलता है कि मां को किसने मारा था। फिर हमने इस कहानी पर काम करना शुरु किया और अभिनव (कश्यप, निर्देशक) ने सभी बदलाव को देखते हुए फिल्म बनाया। फिल्म में गाना भी आ गया, रोमांस भी आ गया, एक्शन भी आ गया। फिल्म रिलीज भी हो गई और लोगों ने पसंद भी किया। हमने अभिनव को दबंग 2 के निर्देशन का भी ऑफर दिया था, लेकिन जो भी कारणों से उन्होंने कहा कि वो नहीं बनाना चाहते।

प्रभुदेवा के आने से फिल्म में क्या बदलाव आए हैं?

प्रभुदेवा के आने से फिल्म में क्या बदलाव आए हैं?

काफी बदलाव दिखेगा। वो एक अलग तरह का हीरोज्म लेकर आए हैं। उन्हें एक्शन, रोमांस, इमोशन, कॉमेडी सबकी अच्छी समझ है और कैसे अपने हीरो से यह सब निकलवाना है, यह भी पता है। साथ ही उनके गानों में डांस करने का मौका भी मिलता है।

हाल ही में एक इंटरव्यू में आपने राधे, चुलबुल और डेविल को साथ लाने की बात की थी….

अरे ऐसे ही मैंने बोल दिया। इन बातों को गंभीरता से ना लें। हमने बस ऐसे ही ये सोचा था कि ऐसा हो सकता है।

आज जबकि पुलिस यूनिफॉर्म वाली इतनी फिल्में बन रही हैं। क्या हम उम्मीद कर सकते हैं कि कभी आप, अजय देवगन, अक्षय कुमार सभी खाकी यूनिफॉर्म में साथ आएं?

आज जबकि पुलिस यूनिफॉर्म वाली इतनी फिल्में बन रही हैं। क्या हम उम्मीद कर सकते हैं कि कभी आप, अजय देवगन, अक्षय कुमार सभी खाकी यूनिफॉर्म में साथ आएं?

इस यूनिफॉर्म में खुद को फिट करने में हमें काफी समय लगा है। मैंने पहली बार फिल्म ‘पत्थर के फूल’ में पुलिस का किरदार निभाया था। फिल्म ठीक ठाक चली.. फिर ‘औज़ार’ आई, फिर ‘वीरगति’ आई। उसके पहले मैंने फिल्मों में रोमांस, एक्शन, कॉमेडी और डांस भी किया था। लेकिन वीरगति से एक हीरो वाली इज्जत मिली। हालांकि यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर फ्लॉप रही थी, लेकिन इसे दर्शकों ने पसंद किया। खैर, जहां तक साथ आने की बात है तो मौका मिला, कोई स्क्रिप्ट हो तो जरूर आ सकते हैं।

एक्शन फिल्मों की बात करें तो आप इसमें माहिर माने जाते हैं। आपकी ज्यादातर एक्शन फिल्में ब्लॉकबस्टर जाती हैं। ऐसे में आप अपनी सफलता कायम रखने के लिए किन बातों का ध्यान रखते हैं?

एक्शन फिल्मों की बात करें तो आप इसमें माहिर माने जाते हैं। आपकी ज्यादातर एक्शन फिल्में ब्लॉकबस्टर जाती हैं। ऐसे में आप अपनी सफलता कायम रखने के लिए किन बातों का ध्यान रखते हैं?

बचपन में जब मैं फिल्में देखा करता था, तो थियेटर से निकलते हुए हीरो के बारे में ही सोचा करता था और उनकी तरह ही बनने के ख्वाब देखता था। वही फंडा मैं आज इस्तेमाल कर रहा हूं। मुझे नहीं लगता heroism से ज्यादा कुछ और काम करता है। हीरोज्म का मतलब रोमांस करने से नहीं है। इसका मतलब है कि आप सारी मुसीबतों का सामना करते हुए किसी के लिए कुछ खास करते हो। लिहाजा, जब हम एक्शन की बात करते हैं, तो एक्शन तब तक काम नहीं करता जब आप इसके पीछे के इमोशन को ना दिखाओ। आप कितने ही गुंडों के साथ फाइट कर लोगे, स्टंट कर लोगे, जब तक उसका इमोशन सही नहीं दिखता है, वह बेमतलब ही है।

आपकी फिल्म 'मैंने प्यार किया' को इसी महीने 30 साल पूरे होने वाले हैं। लीड एक्टर के तौर पर यह आपकी पहली फिल्म थी। फिल्म से जुड़ा कोई अनुभव शेयर करना चाहेंगे?

आपकी फिल्म ‘मैंने प्यार किया’ को इसी महीने 30 साल पूरे होने वाले हैं। लीड एक्टर के तौर पर यह आपकी पहली फिल्म थी। फिल्म से जुड़ा कोई अनुभव शेयर करना चाहेंगे?

ऐसा लगता है जैसे कुछ ही दिनों पहले मैं काम की तलाश में था और ‘मैंने प्यार किया’ साइन किया। वह कल रिलीज हुई और आज मैं यहां हूं, इस पोजिशन में। लिहाजा, ये 30 साल मेरे लिए कल और आज में ही सिमटी हुई है। इतनी तेजी से यह वक्त निकला है।

प्रीति जिंटा ने आपके साथ खाकी यूनिफॉर्म में एक तस्वीर शेयर की थी, जिसके बाद अफवाह थी कि वो दबंग 3 में कैमियो निभाने वाली हैं?

प्रीति जिंटा ने आपके साथ खाकी यूनिफॉर्म में एक तस्वीर शेयर की थी, जिसके बाद अफवाह थी कि वो दबंग 3 में कैमियो निभाने वाली हैं?

(हंसते हुए) प्रीति को Halloween के लिए कुछ खास करना था। वो पुलिस के रोल में तैयार हुईं थी। मैं दबंग 3 की शूटिंग के अंतिम दिन में कुछ सीन शूट कर रहा था, जब मैंने प्रीति को यूनिफॉर्म में देखा। फिर मैं भी अपने चुलबुल आउटफिट में तैयार हुआ और हमने तस्वीर खिंचाई। मैं प्रीति को बहुत चाहता हूं और हम ये सब करते रहते हैं। वो एक शानदार दोस्त हैं।


Source link