सत्ते पे सत्ता

सत्ते पे सत्ता

फराह खान और रोहित शेट्टी मिलकर काफी समय से सत्ते पे सत्ता रीमेक बनाने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन अभी तक फिल्म केवल खबरों तक ही सीमित है। हालांकि अफवाहों में फिल्म की स्टारकास्ट आए दिन बदल जाती है।

अंगूर रीमेक

अंगूर रीमेक

वहीं, रोहित शेट्टी फिलहाल, रणवीर सिंह के साथ अंगूर रीमेक बना रहे हैं। फिल्म का नाम है सर्कस और ये शेक्सपियर के नाटक कॉमेडी ऑफ एरर्स पर आधारित है। इसी नाटक पर गुलज़ार, संजीव कुमार और देवेन वर्मा के साथ अंगूर बना चुके हैं।

चुपके चुपके

चुपके चुपके

चुपके चुपके रीमेक में राजकुमार राव को धर्मेद्र की भूमिका के लिए अप्रोच किया गया है। फिल्म को लव रंजन बना रहे हैं। अब देखना है कि रीमेक में अमिताभ बच्चन की भूमिका कौन निभाता है। तब तक के लिए तो फिल्म की स्क्रिप्ट पर तेज़ी से काम हो रहा है।

रात और दिन रीमेक

रात और दिन रीमेक

खबर थी कि ऐश्वर्या राय को इस रीमेक के लिए फाईनल किया जा चुका है। फिल्म को रोहन सिप्पी डायरेक्टर करने वाले थे लेकिन फिलहाल फिल्म के बारे में किसी को कोई खबर नहीं है।

छोटी सी बात रीमेक

छोटी सी बात रीमेक

माना जा रहा है कि इस फिल्म के लिए भी आयुष्मान खुराना को ही अप्रोच किया जा रहा है। वैसे भी आयुष्मान खुराना को आज के ज़माने का अमोल पालेकर मान लिया गया है और वो ऐसी फिल्मों को बेहतरीन ढंग से निभा ले जाते हैं।

वो कौन थी

वो कौन थी

खबर है कि इस फिल्म के रीमेक की तैयारियां ज़ोरों से चल रही थी और लीड कास्ट के लिए दीपिका पादुकोण और ऐश्ववर्या राय में टक्कर भी चल रही थी। लेकिन क्रिआर्ज इंटरटेनमेंट के बंद होते ही फिल्म भी ठप हो गई।

 बैजू बावरा

बैजू बावरा

संजय लीला भंसाली ने इस फिल्म के रीमेक राइट्स खरीद लिए हैं और खबर है कि वो लगातार इस पर काम कर रहे हैं। अफवाहें तो यहां तक थीं कि इस फिल्म के रीमेक के लिए भंसाली ने शाहरूख खान – सलमान खान और आलिया भट्ट को अप्रोच किया था। अब माना जा रहा है कि फिल्म के लिए रणबीर को अप्रोच किया गया है।

अर्थ रीमेक

अर्थ रीमेक

महेश भट्ट की अर्थ रीमेक की स्टारकास्ट भी फाईनल हो चुकी है। फिल्म में इमरान हाशमी, स्वरा भास्कर और जैकलीन फर्नांडीज़ नज़र आने वाले थे लेकिन फिलहाल फिल्म के बारे में किसी के पास कोई अपडेट नहीं है।

रूक चुकी हैं फिल्में

रूक चुकी हैं फिल्में

गौरतलब है कि रीमेक करना इतना आसान भी नहीं है। रोहित शेट्टी की राम लखन रीमेक इसलिए डिब्बाबंद हो गई थी क्योंकि किसी को राम नहीं बनना था। सबको लखन की भूमिका चाहिए थी।

पहले का स्कोर

पहले का स्कोर

बॉलीवुड में पहले भी हिंदी फिल्मों के रीमेक बन चुके हैं। और इनका स्कोर हमेशा 50 प्रतिशत रहा है। यानि कि फिल्म के हिट और फ्लॉप होने का चांस बराबर का रहता है।


Source link