काजोल की शायरी

काजोल की शायरी

ऐसा पहली बार हुआ है 17 – 18 सालों में…..ufff आपने भी ऐसी शायरियां लिखी हैं चुपके चुपके…वैसे सलमान खान ने इस शायरी को गाना बनाकर गाने की धज्जियां क्यों उड़ाईं..इसके बारे में भी कभी डिस्कस करेंगे।

तौलिया डांस

तौलिया डांस

काजोल का टावेल डांस इतना क्यूट था कि इसे छोड़ दिया जाता तो फिल्म काफी फीकी होती। उन्होंने अकेले भी रोमांस का उतना ही फील दिया था जितना शाहरूख काजोल के साथ वाले सीन्स में था।

आओ...आओ

आओ…आओ

कबूतर जा जा जा के बाद सब सफेद कबूतर को भूल गए….पर अगर कबूतर ना होते तो आओ..आओ…अमरीश पुरी की आवाज़ में कैसे सुनते….क्यों करते ना मिस!

खूबसूरत खेत

खूबसूरत खेत

पीले लहलहाते सरसों के खेत आपने ज़िंदगी में बहुत देखें होंगे लेकिन ऐसे खूबसूरती से उनका इस्तेमाल नहीं देखा होगा। इंडिया आते ही सरसों के खेत, फील ही आ गया था बाई गॉड!

बियर ही बियर

बियर ही बियर

हमारे देश में उस ज़माने में बियर इतनी कूल चीज़ नहीं थी। लेकिन इस फिल्म में बियर को बड़ी जगह मिली। पहले शाहरूख ने बाउजी की दुकान से उठाई, फिर ठंड में काजोल को पिलाई।

क्यूट से करण जौहर

क्यूट से करण जौहर

मानिए चाहे ना मानिए लेकिन करण का ये इकलौता रोल आज भी चर्चा का विषय रहता है और तो और जब भी आपने करण जौहर को जानने के बाद ये फिल्म देखी थी तो एक सीन में आपका रिएक्शन था कि इसे कहां देखा….Ohhh Shitt…Karan Johar

मंदिरा बेदी के बिना कैसी DDLJ!

मंदिरा बेदी के बिना कैसी DDLJ!

पहला पॉइंट तो ये कि उस ज़माने में मंदिरा बेदी ऐसी दिखती थीं, छुईमुई टाइप्स…दूसरा उन्होंने डांस भी किया है…शाहरूख के लिए सज संवर के…ऐसे…और कुछ बोलने की ज़रूर्त है!

सेनोरिटा का जादू

सेनोरिटा का जादू

उस समय काफी लोगों को नहीं पता था कि सेनोरिटा क्या है, लेकिन जो भी था अच्छा लगा था। वैसे सीक्रेट ये है कि काफी लोगों को आज भी नहीं पता होगा कि सेनोरिटा क्या है….कौन है…पर बस सुनने में तो अच्छा लगता है ना!

एक गाना फिक्स

एक गाना फिक्स

करवा चौथ इतने अच्छे से वो भी बैकग्राउंड गाने के साथ कहीं हीं मनाया गया होगा। थैंक्स टू डीडीएलजे कि सारे हिंदी सीरियलों को करवा चौथ के लिए बैकग्राउंड म्यूज़िक मिल गया था।

अच्छे लोकेशन

अच्छे लोकेशन

कुछ भी कहिए लेकिन अच्छी लोकेशन पर रोमांस करना किसे नहीं अच्छा लगता है। तो भई काजोल की यूरोप ट्रिप कहीं और की होती…लोखंडवाला, खंडाला टाइप तो भी मज़ा आता पर ऐसा नहीं।

ट्रेन ना होती तो..

ट्रेन ना होती तो..

अगर ट्रेन नहीं होती ना कसम से तो फिल्म में बिल्कुल मज़ा नहीं आता….जा सिमरन जा तो होता पर फील नहीं होता….सच सच बताइये….स्टेशन पर दोस्तों के साथ…गर्लफ्रेंड के साथ ये पोज़ कितनी बार मारा है।


Source link