रिस्क नहीं लेना चाहते मेकर्स

रिस्क नहीं लेना चाहते मेकर्स

सूर्यवंशी और 83.. दोनों ही काफी बड़े बजट की फिल्में हैं, लिहाजा मेकर्स कमाई के मामले में कोई रिस्क नहीं लेना चाहते हैं। जाहिर है कि जब तक देशभर के सिनेमाघरों को पूरी क्षमता से काम करने की अनुमति नहीं मिल जाती, मेकर्स बड़ी फिल्में रिलीज करने से कतराएगें।

ओवरसीज मार्केट है दूसरी वजह

ओवरसीज मार्केट है दूसरी वजह

वहीं, फिल्में रिलीज नहीं करने की दूसरी बड़ी वजह है ओवरसीज मार्केट। कई देशों में अभी तक लॉकडाउन पूरी तरह हटाया नहीं गया है।

ओवरसीज कमाई प्रभावित

ओवरसीज कमाई प्रभावित

एक रिपोर्ट के अनुसार, ट्रेड एनालिस्ट कोमल नाहटा ने कहा, “अमेरिका और ब्रिटेन में अभी भी सिनेमाघर बंद हैं। रिलायंस कंपनी जानती है कि उनका ज्यादातर प्रॉफिट इन दो बड़े देशों से होता है। ऐसे में जाहिर है कोई भी निर्माता अपने प्रॉफिट शेयर में इतना बड़ा नुक्सान नहीं झेलना चाहेगा।”

2700 करोड़ का बिजनेस

2700 करोड़ का बिजनेस

रिपोर्ट्स के अनुसार, साल 2019 में ओवरसीज मार्केट से बॉलीवुड को 2700 करोड़ तक का मुनाफा हुआ था। भारतीय बॉक्स ऑफिस को अमेरिका से 23 प्रतिशत और यूके से 6 प्रतिशत की आय होती है। और इन दोनों ही देशों में फिलहाल सिनेमाघर पूरी तरह से नहीं खुले हैं।

जून से रिलीज होगीं फिल्में?

जून से रिलीज होगीं फिल्में?

माना जा रहा है कि ईद में सलमान खान की राधे के बाद.. जून से ही बड़ी फिल्मों को रिलीज करने का सिलसिला शुरु किया जाएगा। फिलहाल मेकर्स इस मामले में धैर्य बनाए रखना चाहते हैं।

साउथ से तुलना सही नहीं

साउथ से तुलना सही नहीं

जहां बॉलीवुड फिल्मों को रिलीज करने से कतरा रही है.. वहीं साउथ फिल्म इंडस्ट्री में धड़ल्ले से फिल्में आ रही हैं और सुपरहिट भी रही है। लेकिन ट्रेड पंडितों का मानना है कि हिंदी और साउथ फिल्म इंडस्ट्री की तुलना सही नहीं है। हिंदी फिल्मों के दर्शक दुनियाभर में फैले हैं, लिहाजा मेकर्स को ज्यादा सावधानी बरतते की जरूरत हैं।


Source link